क्यों करे मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स सीखने के लिए 5000 - 25000 रुपये खर्च


Mobile Repair Course कम कीमत में पुरा कोर्स सीखने का सही तरीका
Mobile Repairing Course आज के Time में तेजी से बढ़ता हुआ Smart Professional Job और Business है. अब आप मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स सीखकर इस क्षेत्र में अपना Career आसानी से बना सकते है और मोबाइल फोन रिपेयर कोर्स सीखने के बाद अपनी Shop खोल सकते है या फिर किसी Mobile Repair Shop/Service Center या में Job के लिए Apply कर सकते है. 


लेकिन अगर आप इस फिल्ड मे नये है तो कैसे स्टेप बाई स्टेप मोबाइल रिपेयर करना, आइये जानते है –
1. Course की जानकारी सबसे महत्वपुर्ण
Mobile Repairing Institute से Mobile Phone Repair Training Course सीखने से पहले आपको निम्न जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहियें –
Course Duration – कोर्स कितनी अवधि का है (कम से कम 4-6 महीने तक कोर्स की अवधि हो)
Course Fees – कोर्स की फीस क्या है (लगभग 7 से 25 हजार तक फीस हो सकती है)
Course Syllabus – कितना कोर्स सीखाया जा रहा है (Basics से Advance Level तक का complete थ्यीरो + प्रैक्टिकल कोर्स)

2. जितना Practical महत्वपुर्ण है उतना ही Theoretical महत्वपुर्ण है
किसी भी Course को सीखने का आसान तरीका है कि पहले उसकी Basics जानकारी हासिल की जाये. मोबाइल रिपेयरिंग में भी आपको पहले उसकी बेसिक जानकारी ग्रहण कर लेनी है उसके बाद अभ्यास करना है. अगर आप मोबाइल रिपेयर कोर्स को अच्छी तरह से, आसानी से, जल्दी से सीखना चाहते है तो किसी Institute में Admission लेने से पहले किसी Premium Mobile Repairing Book, PDF Book(eBook), Apps और Videos से कोर्स सीख लेना चाहियें. इससे आपको ये फायदे होगें –
आपको कोर्स को लगभग – लगभग सीख जाते है
अब आपको केवल Practice करने की आवश्यकता है वो आप किसी Shop या Institute मे जाकर कर सकते है.

मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स ई-बुक से सीखे या इंस्टीट्युट से –
1. दोनो से सीख सकते है ई-बुक का कोर्स असीमित होता है जबकि इंस्टीट्युट का कोर्स सीमित होता है.
2. ई-बुक से आप कभी भी कही भी सीख सकते है जबकि इंस्टीट्युट का समय निश्चित होता है.
3. ई-बुक कोर्स सस्ता होता है जबकि इंस्टीट्युट का कोर्स बहुत मंहगा होता है.
4. ई-बुक कोर्स में Practical और Theoretical दोनो होते है, theoretical में आपको जानना होता है और Practical मे खुद करके सीखना होता है जबकि इंस्टीट्युट कोर्स में भी दोनो होते है theoretical में आपको बताया जाता है और Practical में आपको खुद करके सीखना होता है.
5. इंस्टीट्युट की फीस की तुलना में ई-बुक की कीमत 1 प्रतिशत भी नही होती है. ई-बुक से भी इंस्टीट्युट जैसा ही सीखते है और साथ ही आप पुरी फीस बचा सकते है और अपनी New Mobile Repair Shop में Invest कर सकते है.
6. आप चाहे ई-बुक से सीखते है या इंस्टीट्युट से, Practice तो आपको ही करनी है. जब तक आप खुद करके नही सीखेगे, तब तक कितने भी मंहगे इंस्टीट्युट से सीख लेने के बाद भी आप Mobile Phone Repair नही कर सकते.
7. अगर आप इंस्टीट्युट की मंहगी फीस देने में असमर्थ है तो ई-बुक का कोर्स आपके लिए वरदान साबित होता है.

Conclusion
हम यह नही कहते है कि आप Institute से कोर्स ना सीखे, हम यह कहते है कि आप जहाँ से भी सीखे, अच्छा सीखे. अगर आप एक इंस्टीट्युट से हजारो रुपये खर्च करके कोर्स सीख रहे है या सीख चुके है फिर भी आपको लगता है कि आप मोबाइल रिपेयर करने के योग्य नही बन पायें है तो आप हमारी Advance Mobile Repairing Course E-Book (HINDI) को एक बार जरुर Download करें.

अगर आप मोबाइल रिपेयरिंग सीखना चाहते है और इसके लिए इंस्टीट्युट में हजारो रुपये खर्च कर रहे है तो पहले हमारी E-BOOK को DOWNLOAD करके एक बार जरुर पढ़ ले, हो सकता है जहाँ आप जिस इंस्टीट्युट में सीखने जा रहे हो, वो आपको हमारी ई-बुक से ही मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स आपको हजारों रुपये में सीखाये.

JOIN US AT FACEBOOK

Sponser