एडवांस मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स पाठ्यक्रम - Advance Mobile Repairing Course Syllabus


मोबाइल फोन व स्मार्टफोन रिपेयरिंग कोर्स 
मोबाइल फोन व स्मार्टफोन में दो तरह की फॉल्ट आती है हार्डवेयर व सॉफ्टवेयर. मोबाइल फोन व स्मार्टफोन सॉफ्टवेयर खराबियों को सेक्रेट कोड व फ्लैशिंग आदि करके कम्प्युटर से तुरन्त ठीक किया जा सकता है. लेकिन मोबाइल फोन व स्मार्टफोन की हार्डवेयर खराबियों को ठीक करने के लियें आपको सबसे पहले मोबाइल फोन के सभी पार्टसो की पहचान, कार्य, खराबियाँ और मल्टीमीटर से फॉल्ट पता करना सीखना जरुरी होगा, यदि आप किसी भी मोबाइल फोन व स्मार्टफोन को अच्छे तरीके रिपेयर करना चाहते है तो मोबाइल फोन की PCB पर सभी पार्टसो की पहचान होना आवश्यक है.

अगर आप मोबाइल फोन व स्मार्टफोन रिपेयरिंग कोर्स को स्टेप से स्टेप सीखना चाहते है तो कोर्स पाठ्यक्रम इस प्रकार होगा 

मोबाइल फोन के पार्टस  
परिचय, पहचान, कार्य व खराबियाँ और मल्टीमीटर से फॉल्ट पता करना
कार्ड लेवल पार्टस
छोटे पार्टस
बड़े पार्टस व सभी आई.सी.

मोबाइल फोन PCB डायग्राम  पार्टसो की PCB पर सचित्र लोकेशन व स्थिति
ब्लैक व वाइट मोबाइल फोन
कलर मोबाइल फोन
मल्टीमीडिया मोबाइल फोन
कैमरा मोबाइल फोन
स्क्रीन टच व स्मार्टफोन मोबाइल फोन

मोबाइल फोन के इन सभी कार्ड लेवल, छोटे व बड़े पार्टस और IC आदि का परिचय, पहचान, कार्य व इनमें होने वाली खराबियाँ औऱ मल्टीमीटर से फॉल्ट पता करना सीखने के बाद मोबाइल फोन के सभी प्रकार के फोन - ब्लैक व वाइट मोबाइल फोन से स्क्रीन टच मोबाइल के PCB डायग्राम पर इन सभी पार्टसो की लोकेशन पता करना सीखेंगे इससे आपको पार्टसो को पहचानने व समझने में बहुत ही आसानी हो जाती है.


मोबाइल फोन रिपेयरिंग औजार (Tools) व उपकरण   
मोबाइल रिपेयरिंग में काम आने वाले सभी औजार व उपकरणों का उपयोग करना
सॉल्डरिंग आयरन
एसएमडी रिवर्क स्टेशन
डीजिटल मल्टीमीटर
BGA बॉल आईसी रिबॉलिंग किट
स्क्रू पेचकस किट
माइक्रो सॉल्डरिंग आयरन
सॉल्डर पेस्ट
सॉल्डर वायर
जम्पर वायर
झटका मशीन
पीसीबी स्टैण्ड
रैती (फाइल)
अन्य सभी आवश्यक मोबाइल रिपेयरिंग टुल्स

कोई भी मोबाइल फोन व स्मार्टफोन की हार्डवेयर रिपेयरिंग करने में काम आने वाले सभी जरुरी औजारो व उपकरणों का उपयोग करना सीखना बहुत ही आवश्यक है. सभीTools का उपयोग करना सीखना के बाद अब मोबाइल कार्ड व चीप लेवल रिपेयरिंग सीखतें है.

मोबाइल फोन कार्ड व चीप लेवल रिपेयरिंग  
सभी पार्टसो का हटाना व लगाना, जम्पर बनाना, PCB प्लेट वॉश करना.
SMD रिवर्क स्टेशन से पार्टस हटाना व लगाना
सॉल्डरिंग आयरन से पार्टस सोल्डर करना
बॉल IC रिबॉलिंग किट से बॉल IC बनाना
मोबाइल फोन के पुर्जे अलग करना
PCB प्लेट वॉश व हीट करना
जम्पर बनाना
IC को PCB पर हटाना व नया लगाना
छोटे पार्टसो को PCB पर हटाना व नया लगाना
कार्ट स्तर के पार्टसो को PCB पर हटाना व नया लगाना
किसी भी मोबाइल पार्टस को PCB पर सोल्डर करना
IC को रिहॉट करना
किसी भी पार्टस को हीट करना
अन्य कार्ड व चीप लेवल रिपेयरिंग

यहाँ तक सीखने के बाद अब आप मोबाइल फोन की किसी भी हार्डवेयर खराबी को ठीक करना सीख सकते है यानि अब मोबाइल फोन हार्डवेयर रिपेयरिंग कोर्स आसानी से सीख सकते है. आप जितनी अधिक कार्ड व चीप लेवल मे रिपेयरिंग सीखेंगे उतनी ही हार्डवेयर खराबियाँ ठीक करना आसान हो जाती है.

मोबाइल फोन व स्मार्टफोन हार्डवेयर रिपेयरिंग  सभी ब्लैक व वाइट, कलर, मल्टीमीडिया, कैमरा मोबाइल फोन व टच स्क्रीन स्मार्टफोन की सभी हार्डवेयर खराबियों को स्टेप से स्टेप सभी पार्टसो से संबंधित खराबियाँ ठीक करना.
रिंगर (लाउण्डस्पीकर)
स्पीकर
माइक (माइक्रोफोन)
वाइब्रेटर मोटर
एल.ई.डी. लाइट
किपेड लाइट
डिस्प्ले स्क्रीन लाइट
किबोर्ड  किपेड बटन
डिस्प्ले स्क्रीन
टच स्क्रीन
हैडफोन
यु.एस.बी डाटा केबल
एफ एम रेडियो
नेटवर्क सिग्नल
बैटरी चार्जिंग
इनसर्ट सिम
मोबाइल हैंग
मोबाइल फोन ऑटो ऑन-ऑफ
डिस्प्ले स्क्रीन में केवल वाइट लाइट
मोबाइल फोन गैलरी नॉट ऑपन
ब्लुटुथ नॉट वर्किंग
पानी में गिरा मोबाइल फोन
पुरा बंद पड़ा मोबाइल फोन
शॉर्ट मोबाइल PCB प्लेट
टच नॉट वर्किंग
मल्टीमीडिया मोबाइल सभी फॉल्ट
कैमरा मोबाइल सभी फॉल्ट
स्मार्टफोन मोबाइल सभी फॉल्ट

यहाँ तक सभी मोबाइल फोन की हार्डवेयर खराबियों को स्टेप से स्टेप सीखने के बाद अब आप कोई भी मोबाइल फोन व स्मार्टफोन बहुत ही आसानी से रिपेयर कर सकते है, आप सभी पार्टसो सें संबंधित सभी हार्डवेयर खराबियों को ठीक करना सीखने के बाद अब किसी भी मोबाइल फोन व स्मार्टफोन की हार्डवेयर खराबी को अपने स्तर पर ठीक कर सकते है.

मोबाइल फोन व स्मार्टफोन सॉफ्टवेयर रिपेयरिंग  मोबाइल फोन व स्मार्टफोन की सभी सॉफ्टवेयर खराबियो को ठीक करना.
मोबाइल में दो तरह की खराबियाँ आती है HARDWARE  SOFTWARE की, मोबाइल की HARDWARE को हम खराबी का पता लगाकर ठीक कर देते है लेकिन SOFTWARE की फॉल्टस को कम्प्यूटर के द्वारा ठीक किया जाता है
JAF & UFS से मोबाइल की सभी सॉफ्टवेयर खराबियाँ ठीक करना -
मोबाइल में हिन्दी भाषा डालना
स्क्रीन का WHITE  होना
मोबाइल से वायरस निकालना
DEAD (पुरा बन्द) मोबाइल को ठीक करना
मोबाइल का SOFTWARE खराब होने पर नया SOFTWARE रिलोड करना
मोबाइल फोन की खराबी का पता करना
मोबाइल को फुल फ्लैश करना
मोबाइल UI Setting करना
Flash Erase कैसे करे
मोबाइल में सभी प्रकार के लॉक खोलना
LOCK लॉक खोलना
PASSWORD पासवर्ड खोलना
SECURITY CODE सिक्युरिटी कोड खोलना
PIN CODE पिन कोड खोलना
PATTERN LOCK पैर्टन लॉक खोलना
MOBILE HANGING मोबाइल हैंग होना
CONTACT SERVICE लिखा आना
CONTACT SERVICE PROVIDER लिखा आना
स्क्रीन पर SIM CARD NOT ACCEPTED लिखा आना
स्क्रीन पर CALL FAILED  लिखा आना
स्क्रीन पर CALL REJECTED  लिखा आना
मोबाइल LOCK  लॉक होना
SECURITY CODE ERROR लिखा हुआ आना
ANDROID PATTERN LOCK पैर्टन Lock लगना
करेक्ट कोड डालने पर भी WRONG CODE लिखा आना
चाइनिज लैंग्वेज आना
मोबाइल ON करने पर केवल स्क्रीन में WHITE लाइट के अलावा कुछ भी दिखाई नहीं देना
मोबाइल ON होकर 4-5 बार झप-झप करके बंद होना
KEYPAD का LOCK होना
स्क्रीन में आधे MENU आना
SCREEN पर मोबाइल LOGO आने के बाद पुरा ON नहीं होना
मोबाइल में सें कई TOOLS & PROGRAM का गायब हो जाना
मोबाइल का NEW SOFTWARE अपडेट कैसे करे
मोबाइल के IMEI नम्बर का मालुम कैसे करे
हार्ड व सॉफ्ट रिसेट कोड से सॉफ्टवेयर खराबियाँ ठीक करना
नोकिया मोबाइल
सैमसंग मोबाइल
मोटोरोला मोबाइल
एन्डॉयड मोबाइल
आईफोन मोबाइल
एल जी मोबाइल
अन्य मोबाइल ब्राण्ड

नोट  ऊपर बतायें गये मोबाइल व स्मार्टफोन रिपेयरिंग कोर्स पाठयक्रम को मोबाइल रिपेयरिंग इंस्टीटयुट में सीखने के लियें 10 से 15 हजार रुपयें फीस लगती है.

मोबाइल फोन रिपेयरिंग कोर्स - Introducation


मोबाइल रिपेयरिंग सीखें और पायें रोजगार करने के ढ़ेरो अवसर
कुछ लोग पढ़ने में अच्छे होते हैं और उसी के बल पर अपनी मंजिल हासिल कर लेते हैं तो कुछ पढ़ने में भले ही औसत दर्जे के हों, पर हाथ के हुनर के बल पर सफलता की सीढ़ियां चढ़ते चले जाते हैं। मोबाइल रिपेयरिंग एक ऐसा ही हुनर है, जिसे सीख कर चाहें तो कहीं नौकरी कर लें या फिर स्वरोजगार शुरू कर दूसरों को नौकरी दें।

जन संचार का माध्यम होने के कारण करीब नब्बें से पिचानवें प्रतिशत लोगों की जरूरत बन चुका मोबाइल अब रोजगार के नए-नए अवसरों का जरिया भी बन गया है। मोबाइल रिपेयरिंग भी इन्हीं में से एक है। आप मोबाइल रिपेयरिंग को सफल स्वरोजगार के रूप में अपना सकते हैं। वैसे तो आप इस काम को मोबाइल मैकेनिक रख कर भी कर सकते हैं, मगर सफल स्वरोजगार के लिए आप स्वयं प्रशिक्षण लें तो बेहतर होगा। दिल्ली और बड़े महानगरों में ही नहीं, अब देश के हर शहर और कस्बे में मोबाइल मैकेनिक की जरूरत है। साथ ही मोबाइल रिपेयरिंग के इंस्टीटय़ूट भी देश में काफी संख्या में मौजूद हैं, जहां से कोर्स करके आप आसानी से इस क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। 

मोबाइल से संबंधित यूं तो बहुत से काम हैं, जिनमें आप करियर बना सकते हैं, लेकिन मोबाइल रिपेयरिंग एक ऐसा काम है, जो कम से कम खर्चे पर स्वरोजगार स्थापित करने में मदद तो करता ही है, साथ ही अच्छी कमाई का भी जरिया बन जाता है। इस स्वरोजगार को कैसे अंजाम दिया जा सकता है, यहां आपको इस बारे में विस्तार से बताया जा रहा है-

कोर्स
वैसे तो मोबाइल रिपेयरिंग में अभी तक कोई डिग्री कोर्स नहीं है, लेकिन आप किसी भी संस्थान से डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स आसानी से कर सकते हैं। सरकारी संस्थानों में अभी मोबाइल रिपेयरिंग के प्रशिक्षण की कमी है। अधिकतर संस्थानों में सर्टिफिकेट कोर्स की अवधि एक से तीन या छह महीने और डिप्लोमा कोर्स की अवधि एक वर्ष है।

प्रवेश और योग्यता
मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करने के लिए आठवीं या दसवीं पास इच्छुक अभ्यर्थी कोर्स कर सकते हैं। इसके अलावा आपको हिन्दी पढ़नी-लिखनी आनी चाहिए। अंग्रेजी का ज्ञान है तो बेहतर होगा। कुछ संस्थानों में बारहवीं पास अभ्यर्थियों को ही प्रवेश दिया जाता है। कोर्स करने के लिए आप अपनी इच्छानुसार किसी भी संस्थान में जाकर दाखिला ले सकते हैं।

फीस
अलग-अलग संस्थानों में फीस अलग-अलग है, लेकिन एक एवरेज फीस दस से पंद्रह हजार है, जिसमें कुछ संस्थान टूल किट भी उपलब्ध कराते हैं। सरकारी संस्थानों में फीस कम है। स्वरोजगार समिति में एक हजार रुपए फीस है। यह सरकारी संस्थान है, जो एक महीने का सर्टिफिकेट कोर्स कराता है। इसके लिए आपको कम से कम दो साल का दिल्ली का रेजिडेंस प्रूफ देना पड़ेगा।
स्वरोजगार के लिए जरूरी तथ्य
स्वरोजगार स्थापित करने से पहले आपको कुछ जरूरी बातें ध्यान में रखनी चाहिए-
  • यह काफी बारीकी वाला काम है, इसलिए बहुत ध्यान से काम करने की जरूरत होती है।
  • पार्ट्स की जानकारी के साथ आपको कंप्यूटर की जितनी अच्छी नॉलेज होगी, आप उतने ही सफल मैकेनिक होंगे।
  • मार्केट में आने वाले हर मोबाइल की जानकारी के साथ उसकी कार्य प्रणाली की जानकारी से जितने अपडेट होंगे, आप उतनी ही तरक्की कर सकेंगे।
  • जगह का चुनाव जितनी समझदारी से करेंगे, उतना बेहतर होगा।
  • ग्राहकों का विश्वास जीतने के लिए मुनासिब दामों में बेहतर सर्विस भी आपके व्यवसाय की तरक्की का कारण बनेगी।यह विद्युत संबंधी काम है, अत: आपको हमेशा सचेत रहना होगा।

फायदे
यदि आप अच्छे से किसी बात को कैच करते हैं और जल्द ही किसी चीज को या पुर्जो की बारीकियों को समझ जाते हैं तो-
  • यह काम कम समय की मेहनत में बेहतर परिणाम देने वाला साबित हो सकता है।
  • आप बड़ी शॉप खोल कर मोबाइल रिपेयर पार्ट्स भी बेच सकते हैं।
  • खाली समय में पुराने खराब मोबाइल ठीक करके बेचने में भी अच्छी कमाई कर सकते हैं।
  • मोबाइल्स की मैन्युफैक्चरिंग कर सकते हैं।
  • एजेंसी लेकर मोबाइल का व्यापार कर सकते हैं।
  • मोबाइल एजेंसियों से कॉन्टेक्ट करके उनकी बिक्री के साथ खुद की वारंटी पर उन्हें बाजार में उतार सकते हैं।

जगह का चुनाव
मोबाइल रिपेयरिंग का काम शुरू करने के लिए सबसे पहली प्राथमिकता है जगह का चुनाव, क्योंकि जितनी भीड़भाड़ वाली जगह यानी घनी मार्केट होगी, आपका काम उतना ही अच्छा चलेगा। इसके साथ ही लाइट की व्यवस्था और ग्राहकों  के आने-जाने में आसानी वाली जगह का ही चुनाव करना चाहिए।

आवश्यक औजार
मोबाइल रिपेयरिंग करने के लिए आपको एमएसडी रिवर्क स्टेशन, पेचकस सैट, सोल्डरिंग आयरन, डिजिटल मीटर और कंप्यूटर की जरूरत होगी। यह सामान आपको दिल्ली की गफ्फार मार्केट व लाजपत नगर के अलावा मुंबई, चेन्नई, भोपाल व अन्य सभी शहरों में आसानी से उपलब्ध हो जाएगा।

लागत
यह काम शुरू करने के लिए तो आप पच्चीस से तीस हजार रुपए में भी काम चला सकते हैं, लेकिन मीडियम लेवल पर ठीक-ठाक काम करने के लिए आपको पचास हजार सेएक लाख तक खर्च करने पड़ सकते हैं। यह लागत जगह के खर्चे को छोड़ कर है।

आमदनी
मोबाइल रिपेयरिंग के काम में आप दस से पचास हजार रुपए प्रतिमाह तक कमा सकते हैं। यह आपके काम, जगह के चुनाव और ग्राहकों की तादाद पर निर्भर करेगा।

मोबाइल कभी न खत्म होने वाली जरूरत

मोबाइल रिपेयरिंग में करियर कैसा है?
हमारे देश में आज हर आदमी के हाथ में मोबाइल दिखने लगा है। जब मोबाइल है तो खराब भी होगा और खराब होगा तो उसे संभालने के लिए मैकेनिक भी चाहिए। ऐसे में मोबाइल रिपेयरिंग आय का एक अच्छा जरिया बनता जा रहा है, जो आगे बढ़ता ही जाएगा।

स्वरोजगार की दृष्टि से इस क्षेत्र में कितनी संभावनाएं हैं?
स्वरोजगार की दृष्टि से तो मोबाइल रिपेयरिंग का काम बहुत ही अच्छा है। जब कोई मोबाइल मैकेनिक कहीं नौकरी करता है तो एक लिमिट तक ही उसे वेतन मिलेगा, लेकिन जब वह अपना काम करेगा तो अनलिमिटेड कमा सकता है। यही नहीं, इसमें एक फायदा यह है कि कोई भी व्यक्ति जो कम पढ़ा-लिखा यानी केवल आठवीं पास हो, इस काम को कर सकता है। इसके अलावा कम पूंजी लगा कर इस काम को किया जा सकता है।

हर रोज नए-नए और सस्ते मोबाइल मार्केट में आ रहे हैं, ऐसे में रिपेयरिंग का काम तो धीरे-धीरे ठप हो जाएगा?
यह बात सही है कि आज हर रोज बाजार में नए-नए मॉडल और वो भी बहुत सस्ते दामों में उतारे जा रहे हैं। ऐसे में एक रिक्शे वाला भी आसानी से मोबाइल खरीद सकता है। लेकिन अगर वह एक बार एक हजार रुपए खर्च करके मोबाइल खरीदता है और वह खराब हो जाता है तो सौ-दो सौ रुपए लगा कर उसे ठीक भी कराता है, एकदम दूसरा नया सेट नहीं लेता। ऐसे में हर आम आदमी सेट को पहले ठीक ही कराएगा, जब तक कि वह बिल्कुल खराब नहीं हो जाता।

क्या ग्रामीण क्षेत्र में भी मोबाइल रिपेयरिंग का काम चल सकता है? हां, क्यों नहीं चल सकता। मगर अब भी बहुत से गांव हैं, जहां बिजली है ही नहीं और अगर है तो उसकी आपूर्ति बहुत कम होती है। ऐसे में स्वरोजगार स्थापित करते समय इस बात का ध्यान रखना पड़ेगा कि जहां आप व्यवसाय करने जा रहे हैं, ऐसी कोई दिक्कत तो नहीं है।

एक मोबाइल मैकेनिक और क्या-क्या कर सकता है?
एक मोबाइल मैकेनिक मोबाइल रिपेयरिंग के अलावा नए मोबाइल्स की बिक्री कर सकता है। किसी कंपनी की एजेंसी ले सकता है। रिचार्ज कूपन बेच सकता है। मोबाइल का सामान बेच सकता है। किसी कंपनी का डिस्ट्रिब्यूटर बन सकता है। इसके अतिरिक्त डाउनलोडिंग, फ्लेशिंग, अपलोडिंग, चाइनीज फोन्स की लॉकिंग कर सकता है। कुछ अतिरिक्त पैसा लेकर ग्राहक को अतिरिक्त वारंटी दे सकता है।



अब मोबाइल रिपेयरिंग शॉप खोलने के फायदे-

  • मोबाइल रिपेयरिंग के पार्टस सस्ते होते है जिससे आमदानी दौगुनी से चौगुनी व कई पार्टस तो अपने खरीदे दाम के पीछे आपको एक 0 और लगाकर कमाई करके देंगे।
  • एसेसरीज और मोबाइल सेट में भी अच्छी खासी कमाई है।
  •  मोबाइल पार्टस बेचकर भी अच्छी कमाई की जा सकती है।
  •  पुराने व सैकिण्ड हैन्ड सेट को खरीदकर उनकी खराबी को ठीक करके बेचकर भी कमाई की जा सकती है।
  •  अन्य मोबाइल दुकानदारो के भी सेट रिपेयरिंग करके कमा सकते है।
  •  मोबाइल रिचार्ज व सिम बेचकर।
  • सॉफ्टवेयर फ्लैश करके बिना मेहनत किये दिमाग से कमाये।
  • मैमोरी डाउनलोड करने पर।
  •  चार्जर,मैमोरी,कार्ड रीडर,पैन ड्राइव आदि जरूर रखे।
  • नये गाने व नई मुवीज डाउनलोड करके अच्छी आमदनी कमा सकते है।


मोबाइल रिपेयरिंग की शॉप लगाने की कुछ आवश्यक जानकारी पर जरूर ध्यान करे-
  •   आपकी शॉप मैन मार्केट या चौराहा व भीड़ वाली जगह पर खोले।
  •  ग्राहको को मोबाइल से सम्बंधित हर चीज उपलब्ध कराये।
  •  मोबाइल शॉप को जितना हो मोबाइल स्पैयर पार्टस की शॉपस से कम दुरी पर रखे।
  • आपकी मोबाइल रिपेयरिंग अच्छी हो।
  •   हमेशा मोबाइल रिचार्ज बैलेंस स्टॉक रखे।
  • ग्राहको के साथ अच्छी बर्ताव रखे।
  •  ग्राहको के सेट समय पर रिपेयरिंग करके दे।
  •  अन्य दुकानदारो से कुछ सस्ती रिपेयरिंग।
  • ज्यादा उधारी ना रखे।
  •  ज्यादा समय तक बिजली गुल ना रहे।
  •  धीरे धीरे मोबाइल रिपेयरिंग के साथ फोटो स्टुडियो व फोटो कॉपी करना शुरू कर दे।
  • शॉप समय पर खोले व बंद करे।
  • अपनी शॉप के कार्ड छपवाये और अपने परिचित,दोस्त व कस्टमर में बाँटे।
  •  कभी कभी मोबाइल सेट बचने के लिये ऑफर जरूर रखे।

All Lessons - Choose & Learn